• Register as an Author at स्त्रीRang
  • Login
  • October 26, 2021

चुपचाप

ख़ामोश रात का अंधेरा कुछ छुपा जाता है ,
कही सिसकियाँ तो कही दर्द भरी कोई चीख़ आग़ोश में अपनी छुपा जाता है ।
सुनसान सी सड़कें और दूर -दूर तक पसरा सन्नाटा
अचानक कही से घूरती हुई दो जोड़ी हैवानी आँखें मन को अंदर तक झकझोर सा जाता है ।
खामोश चुपचाप -सा कुछ हो जाता है ,
होकर बस गुजर सा जाता है ।

कहाँ मिलता न्याय उसे
जो सहकर चुप सा रह जाता है
लड़ जाता भिड़ जाता जो अपने लिए
अनगिनत निगाहों का निशाना सा बन जाता है
आत्म- सम्मान के लिए लड़ना गुनाह सा बन जाता है ।
फिर भी लड़ा जो खुद के लिए
जीत जाता है
सवालों भरी कई निगाहें ही सही
पर जंग अपनी वो सही मायने में जीत जाता है।

अंजली व्यास

Anjali

Hello dear readers ,you can read my stories ,poetries here also now .. And plz do like ,comments ,give your suggestions too .. I will be happy to know your suggestions and connecting to you from write ups ...

Read Next

क्यों नहीं कोसती आत्मा तुम्हारी !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *