• Register as an Author at स्त्रीRang
  • Login
  • September 30, 2020

तिरंगा

तिरंगा

मैं तिरंगा ,
केवल लाल किले से ही
नहीं बोलता हूं !

हर राष्ट्रीय पर्व की शुभ बेला में
चौराहे की लाल बत्ती पर
मुझे हाथ में थामे,
दो चंद सिक्कों की खातिर
रुकी गाड़ियों के बंद शीशों को थपथपाते
बच्चों की आँखों से भी
बोलता हूं !

हर विद्यालय के मंच पर
‘तेरी मिट्टी में मिल जावां’
गीत की धुन पर नृत्य कर थिरकते,
मानव पिरामिड बनाते बच्चों के हाथों में
लहराकर मिली तालियों की
गड़गड़ाहट से भी बोलता हूं !

किसी कालेज के फ्रीडम फैस्ट
में आज़ादी मांगती , ठहाके लगाती
मुस्कुराती अल्हड़ युवती के
गालों पर सजे तिरंगे
की टैटू बन उसके
दिल में बहते देशभक्ति
के झोंके से भी बोलता हूं!

अखबारों के कवर पेज,
टीवी चैनलों की सबसे बड़ी वाली
एक्सक्लूसिव खबरों, विज्ञापनों, कवि-दरबारों,
सीधे-प्रसारणों , सोशल मीडिया पर
फारवर्ड होते वीडियो, लेखों, कविताओं
के चटकीले रंगों की
तिरंगी बौछारों से भी बोलता हूं!

माईनस तापमान की
जमी बर्फ के बीच ,
सरहद की किसी ऊंची
पहाड़ी की ओट से
हाथों में बंदूक थामे
सैनिक के सीने पर लगे तिरंगा बैज
के पीछे से आती दिल की धड़कनों
से भी बोलता हूं !

बाद छंटने के किसी स्वतंत्र गणतंत्र
के समारोह की वो हाई क्लास भीड़,
पार्कों, सभागारों को
व्यवस्थित कर सहेजते,
मंच की मेजों, कुर्सियों पर बिखरे पड़े,
मेरे अस्तित्व को,
झाड़,पोंछकर हाथ में दुलारकर,
मेरी सिलवटें दूर करते,
सफाई कर्मचारी के प्लास्टिक
बैग से भी बोलता हूं !

मैं तिरंगा,
केवल लाल किले से ही
नहीं बोलता हूं!

0 Reviews

Write a Review

Share This

Sugyata

Read Previous

सबके राम

Read Next

प्रेम और स्त्रियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *