• Register as an Author at स्त्रीRang
  • Login
  • March 5, 2021

मकान

पिता की अनुपस्थिति में
माँ सो नहीं पाती
माँ की अनुपस्थिति में
पिता अख़बार नहीं देखते
और नहीं पीते चाय !
पिता की अनुपस्थिति में
माँ की आँखे दहलीज पर
पसरी रहती,
माँ की अनुपस्थिति में
पिता बेचैनी ओढ़े
चहलकदमी करते बाहर !
पिता की अनुपस्थिति में
माँ का दिन न उगता
माँ की अनुपस्थिति में
पिता की साँसें डूबी रहती!
दोनों की अनुपस्थिति में
घर लगने लगता वीरान
और रह जाता केवल मकान !

0 Reviews

Write a Review

Share This

Sugyata

Read Previous

पुरखिन बेटियां

Read Next

दुख

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *